Books published by Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) at best prices | Best of Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) (700 books)

Shahdat

Shahdat

भारत की एकमात्र महिला प्रधानमन्त्री रहीं इन्दिरा गाँधी के जीवन पर आधारित है लेखक राजेन्द्र मोहन भटनागर की यह पुस्तक। यह इन्दिरा गाँधी की 67 सालों की उथल-पुथल भरी, घटनापूर्ण ज़िन्दगी की गाथा है जो इस बात पर प्रकाश डालती है कि एक संकोची, एकान्त पसन्द, गुमसुम रहने वाली लड़की में ऐसी कौन सी विलक्षणताएँ थीं जिनके कारण वह दो बार देश की प्रधानमन्त्री चुनी गयीं।
बैंकों के राष्ट्रीयकरण, बांग्लादेश के जन्म, एमरजेंसी, और ब्लू-स्टार ऑपरेशन जैसे ऐतिहासिक निर्णयों से जहाँ इन्दिरा गाँधी की छवि एक दबंग, निष्ठुर नेता की थी वहीं अपने व्यक्तिगत जीवन में वह संवेदनशील, कला और संस्कृति की परख रखने वाली, ज़िन्दगी की हर छोटी-से-छोटी बात पर ध्यान देनेवाली महिला और ममतामयी माँ थीं। उनके जीवन के इन सभी पहलुओं को एक साथ बुनकर लेखक ने एक रोचक और पठनीय जीवनी का सृजन किया है।

Ajab Gajab Meri Duniya

Ajab Gajab Meri Duniya

अजब-गजब मेरी दुनिया के चहेते लेखक रस्किन बॉन्ड अपनी पैनी नज़र और व्यंग्य की स्याही में डूबी कलम से आस-पास की जगहों, लोगों, जीव-जन्तुओं, दूर-पास के कुछ सिरफिरे रिश्तेदारों, यहाँ तक कि अपने साथ भी समय-असमय घटित अद्भुत घटनाओं को चटखारे ले-लेकर वर्णित करते हैं। इस पुस्तक में उनकी यह अनूठी बयानबाजी कभी पाठक को अचंभित करती है, कभी गुदगुदाती है तो कभी हँसी से लोट-पोट करती है।
साहित्य अकादमी पुरस्कार, पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित रस्किन बॉन्ड की अन्य उल्लेखनीय पुस्तकें हैं - उड़ान, रूम ऑन द रूफ़, वे आवारा दिन, दिल्ली अब दूर नहीं, एडवेंचर्स ऑफ़ रस्टी, नाइट ट्रेन ऐट देओली, पैन्थर्स मून और अंधेरे में एक चेहरा ।

Tilsam

Tilsam

Tilsam (Hindi) Paperback - 1 Jan 1999 by Sharad Joshi

Rape Tatha Anya Kahaniyan

Rape Tatha Anya Kahaniyan

औरतों के प्रति रेप से बडा शायद ही कोई अपराध हो । यह हर उस समाज के मुंह पर करारा तमाचा है जो सभ्य होने का दावा करता है । पर क्या रेप केवल एक अनजान आदमी के हाथों ही होता है 7 यया रेप केवल शरीर का ही हो सकता है 7 प्रस्तुत कहानियां महित्ताओं से जुड़े कुछ ऐसे ही सवाल उठाती हैं और पाठकों को उनके उत्तर तलाशने को मजबूर कर देती हैं ।

Prernatamak Vichar (Inspiring Thoughts Quotation Series)

Prernatamak Vichar (Inspiring Thoughts Quotation Series)

विश्वभर में गुरुदेव के नाम से विख्यात रवीन्द्रनाथ टैगोर कवि, लेखक और चित्रकार होने के साथ-साथ दार्शनिक और विचारक भी थे। वह सही मायनों में पूर्वी और पश्चिमी सस्कृति के अदूभुत संगम थे। अपने काव्य-संग्रह 'गीतांजलि' के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले वह पहले भारतीय थे। इस प्रेरणात्मक पुस्तक में दिए गए टैगोर के विचार उनकी गहन अंतर्दृष्टि और संवेद

Nauva Geet

Nauva Geet

१९१३ में रवीन्द्रनाथ टैगोर को जब साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया तो वे एशिया और भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे। इस पुस्तक में हिन्दी के जाने-माने लेखक सुरेश सलिल का टैगोर की कुछ श्रेष्ठ कविताओं का हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत है।

Mann Kya Hai

Mann Kya Hai

”मन का मौन परिमेय नहीं है, उसे मापा नहीं जा सकता। मन को पूरी तरह से खामोश होना होता है, विचार की एक भी हलचल के बिना। और यह केवल तभी घटित हो सकता है, जब आपने अपनी चेतना की अंतर्वस्तु को, उसमें जो कुछ भी है उस सब को, समझ लिया हो। वह अंतर्वस्तु, जो कि आपका दैनिक जीवन है--आपकी प्रतिक्रियाएं, आपको जो ठेस लगी है, आपके दंभ, आपकी चातुरी तथा धूर्ततापूर्ण छलावे, आपकी चेतना का अनन्वेषित, अनखोजा हिस्सा--उस सब का अवलोकन, उस सब का देखा जाना बहुत ज़रूरी है; और उनको एक-एक करके लेने, एक-एक करके उनसे छुटकारा पाने की बात नहीं हो रही है। तो क्या हम स्वयं के भीतर एकदम गहराई में पैठ सकते हैं, उस सारी अंतर्वस्तु को एक निगाह में देख सकते हैं, न कि थोड़ा-थोड़ा करके? इसके लिए अवधान की, ‘अटेन्शन’ की दरकार होती है...“ मन की थाह पाने के मनुष्य ने बड़े जतन किये हैं। जीवन में उसकी सम्यक् भूमिका क्या है, सही जगह क्या है, यह जिज्ञासा इतिहास के प्रारंभ से ही मंथन और संवाद का विषय रही है। मन एवं जीवन से जुड़े इन प्रश्नों की यात्रा को जे.कृष्णमूर्ति ने नया विस्तार, नये आयाम दिये हैं। 1980 में श्रीलंका में प्रदत्त इन वार्ताओं में मनुष्य के जीवन को एक ऐसी किताब का रूपक दिया गया है, जो वह स्वयं है; और उसका पाठक भी वह स्वयं ही है।

Hamlet

Hamlet

Hindi

Gadar Ke Phool

Gadar Ke Phool

यशस्वी साहित्यकार अमृतलाल नागर की यह कृति ‘गदर के फूल’ सत्तावनी क्रान्ति संबंधी स्मृतियों और किंवदंतियों का प्रामाणिक दस्तावेज़ है। भारत की स्वतन्त्रता के लिए 1857 में क्रान्ति की एक चिंगारी भड़की थी जिसे अंग्रेज़ों ने ‘गदर’ का नाम दिया था। उस काल के व्यक्ति अब छीजते जा रहे हैं। उन्हीं स्मृतियों को नागर जी ने इस पुस्तक में संजोया है। अवध में घूम-घूमकर, उस काल के प्रत्यक्षदर्शी लोगों के संस्मरणों के माध्यम से तथा अन्य उपलब्ध ऐतिहासिक प्रमाणों को आधार बनाकर नागर जी ने इस पुस्तक की सामग्री का संचयन किया है।

Ek Sadak Sattavan Galiyan

Ek Sadak Sattavan Galiyan

कमलेश्वर का यह उपन्यास मानवता के दरवाजे पर इतिहास और समय की एक दस्तक है... इस उम्मीद के साथ कि भारत ही नहीं, दुनिया भर में एक के बाद एक दूसरे पाकिस्तान बनाने की लहू से लथपथ यह परम्परा अब खत्म हो...

Chanakya

Chanakya

Chanakya

Akbar Aur Birbal - I

Akbar Aur Birbal - I

Emperor Akbar, the Great Mughal Ruler of the 16th century was renowned for housing a constellation of illustrious courtiers in the likes of Tansen, Abu'l Fazl and Raja Todar Mal among others.

The most prominent figure among the Navratnas was Birbal, Akbar's chief administrative counselor. Birbal's ready wit and subtle Humour made his exchanges with Emperor Akbar one of the most admired and indispensable chapters of Indian folklore. The witty repartees between Akbar and Birbal have entertained Children and grown-ups from Time immemorial. The stories revolving around Akbar and Birbal's interactions have not only amused the Readers but have also imbued helped moral values in them along the way.

Akbar Aur Birbal I includes a series of fables which describe Birbal's exceptional presence of mind and sharp intellect which comes to Akbar's rescue in many a tricky situation. This volume comprises of humorous anecdotes about Birbal's smartness, that leaves Akbar's courtiers as well as the Emperor himself astonished. It was this unprecedented cleverness of Birbal that endeared him to Emperor Akbar and the stories of their rapport have enjoyed widespread acclaim down the ages.

This collection includes intriguing stories about how Birbal enabled Emperor Akbar to escape numerous adversities. The narrative is made further interesting by several illustrations and thus more appealing to the readers. It not only offers a funny re-imaging of traditional narratives, but also provides an intelligent insight into the lives of the regality of erstwhile eras. The 2012 edition of Akbar Aur Birbal I, published by Rajpal in 2012, is available in paperback.

Key Features:

  • Written in Hindi, this collection of Short Stories is easily comprehensible for Readers of all ages.
  • Every story is paired with colourful illustrations and interactive key-notes.
  • There is another interesting sequel to this collection.
  • The paperback version enchants the Children with the funny stories, while giving adults a nostalgic sneak-peak into their own childhood.

Vaidik Gyan Vigyan Kosh

Vaidik Gyan Vigyan Kosh

वेदों को ज्ञान-विज्ञान का सार माना जाता है। राजनीती, समाज, विज्ञान, कृषि, ज्योतिष, चिकित्सा, कला, कौन-सा विषय नहीं है इसमें? भारत के अन्य प्राचीन ग्रंथों जैसे उपनिषदों, पुराणों आदि में भी जीवन के हर पक्ष पर गूढ़ और विस्तृत ज्ञान है। वैदिक युग में लोग ज्ञान के इसी अनुभव भंडार से मार्गदर्शन पाते थे। इसलिए वह हर दृष्टि से समृद्ध और सम्पन्न युग था। एक ë

Ratna Ki Baat

Ratna Ki Baat

प्रस्तुत उपन्यास 'रत्ना की बात' मध्यकालीन हिन्दी कविता के अग्रणी भक्त कवि और 'रामचरित मानस' के अमर गायक गोस्वामी तुलसीदास के जीवन पर आधारित है, जिसमें महाकवि की लोकमंगल की भावना को केन्द्र में रखने के साथ-साथ, तुलसी के घरबार और उनके जीवन संघर्ष को फ्लैशबैक तकनीक से इस तरह उभारा गया है कि उस समय का समुचा समाज, युगीन प्रशन और उस सबके बीच कवि की सामाज

Udaan

Udaan

सच्ची घटनाओं पर आधारित 1857 के पहले स्वतंत्रता-संग्राम की पृष्ठभूमि पर लिखा गया यह उपन्यास इतिहास के शिकजें में जकड़े प्रेम-भरे दिल की एक दास्तान है। रूथ एक अंग्रेज़ लड़की है जो अपने माता-पिता के साथ शाहजहांपुर में रहती है। चर्च में आते-जाते रूथ एक पठान नवाब जावेद खान के मन को भा जाती है। विद्रोहियों और अंग्रेज़ी फौजियों के बीच छिड़ी लड़ाई से बचने के लिए रूथ और उसकी मां को जावेद खान के पास पनाह लेनी पड़ती है। क्या जावेद खान रूथ को अपना बना पाता है ? रूथ के मन में जावेद खान के प्रति घृणा और क्रोध क्या प्यार में बदल जाता है ? दिल की इन्हीं सब परतों में छिपी भावनाओं को एक मार्मिक कहानी में बदल दिया है रस्किन बांड की कलम ने जिस पर श्याम बेनेगल ने 1979 में ‘जुनून’ फिल्म भी बनाई थी। "रस्किन बांड का यह उपन्यास अति पठनीय...आखिरी पन्ना पलटते हुए अफसोस होता है कि उपन्यास खत्म हो गया...दिल को छू लेने वाली कहानी बहुत देर तक याद रहती है।" -संडे ट्रिब्यून "1857 की आज़ादी की लड़ाई पर आधारित यदि आप कोई उपन्यास खोज रहे हैं तो रस्किन बांड का यह उपन्यास सबसे बेहतर है।" -हिन्दुस्तान टाइम्स

Thanda Ghosht Aur Anya Kahaniyaan

Thanda Ghosht Aur Anya Kahaniyaan

अगर आपको मेरी कहनियाँ अश्लील या गन्दी लगती है , तो जिस समाज में आप रह रहे है , वह अशलील और गन्दा है . मेरी कहनियाँ तो केवल सच दर्शाती है .....अक्शर ऐसा कहते थे मंटो जब उन पर अश्लीलता के इल्जाम लगते . बेबाक सच लिखने वाले मंटो बहुत से ऐसे मुदो पर भी लिखते जिन्हें उस समय के समाज में बंद दरवाजो के पीछे दबा कर, छुपा कर रखा जाता था . सच सामने लाने के साथ, कहानी कहने की अपनी बेमिसाल अदा और उर्दू जबान पर बेजोड़ पकड़ ने सआदत हसन मंटो को कहानी का बेताज बादशाह बना दिया . मात्र 43 सालो की जिन्दगी में उन्होंने 200 से अधिक कहानियाँ , एक उपन्यास , तीन निबन्ध संग्रह और अनेक नाटक ,रेडियो और फिल्म पटकथा लिखी . फ्रेंच और रूसी लेखको से प्रभावित , वामपंथी सोच वाले मंटो के लेखन में सचाई को पेश करने की ताकत है जो लम्बे अर्से तक पाठक के दिलो दिमाग पर अपनी पकड़ बनाए रखती है २०१२ मे पूरे हिन्दुतान में मनाई गयी मंटो की जन्म -शताब्दी इस बात का सबूत है की मंटो आज भी अपने पाठकों और प्रशंसकों के लिए जिन्दा है .

Telegu Ki Chuni Hui Kahaniyaan

Telegu Ki Chuni Hui Kahaniyaan

पालगुम्मि पदाराजू।, ब्रुच्चि बाबू वनश्री, चलसानि प्रसादराव तेलुगु साहित्य के जाने-माने नाम हैं । इनकी और अन्य तेलुगु लेखकों को चुनी हुई कहानियाँ इस पुस्तक में प्रस्तुत हैं जिनका चुनाव हिन्दी के प्रसिद्ध साहित्यकार कमलेश्वर ने किया है और साथ ही एक विस्तृत भूमिका भी लिखी है । प्रत्येक भाषा को अपनी प्रकृति होती है और इस संकलन में आप तेलुगु कहानी को अपनी विशेष शैली, अपना विशिष्ट प्रवाह पाएंगे । यह पुस्तक हिन्दी के पाठकों को तेलुगु की उत्कृष्ट कहानियाँ और तेलुगु साहित्य को जानने कर अवसर प्रदान करती है ।

The Room on the Roof

The Room on the Roof

1992 में साहित्य अकादमी अवार्ड से पुरस्कृत रस्किन बांड का यह पहला उपन्यास है जिसे उन्होंने 17 वर्ष की उम्र में लिखा था। इस उपन्यास का पात्र, रस्टी एक सोलह वर्षीय एंग्लो-इंडियन लड़का है जिसके मां-बाप नहीं हैं और जिसे अपने अंग्रेज़ रिश्तेदारों का अनुशासन और तौर-तरीके बिल्कुल रास नहीं आते और वह उनके घर से भाग जाता है। फिर उसे मिलते हैं नये दोस्त जिनके साथ बाज़ार, मेले और त्योहारों की चहल-पहल में वह खो जाता है... बचपन और जवानी के बीच की अल्हड़ उम्र के अनुभवों पर आधारित यह क्लासिक उपन्यास आज भी पाठकों का भरपूर मनोरंजन करता है। "अपना एक विशेष जादू है इस पुस्तक का" -हैरल्ड ट्रिब्यून बुक रिव्यू "बेहद पठनीय" -द गार्डियन

Pichhle Dino

Pichhle Dino

शरद जोशी की गणना हिन्दी के अग्रणी हास्य-व्यंगकारों से की जाती है । उनकी रचनाएं जहाँ एक और हंसाती और मन को गुदगुदाती हैं, वहां दूसरी और जबरदस्त चोट भी करती है । समाज, शासन और राजनीति उनकी रचनाओं के विशेष विषय रहे है । 'पिछले दिनों शरद जोशी के ऐसे व्यंग्य लेखों का संग्रह है जो एक ओर सामाजिक स्थितियों को नई दृष्टि देते हुए सही दिशा की ओर इंगित करते हैं तो दूसरी ओर अपनी तीक्ष्णता और पैनेपन से भी पाठक को प्रभावित करते हैं । इन रचनाओं से हिन्दी साहित्य का स्तर ऊंचा हुआ है ।

Night Train at Deoli

Night Train at Deoli

नाइट ट्रेन ऐट देओली की अधिकतर कहानियों की पृष्ठभूमि उत्तराखंड की घाटियाँ हैं, जहाँ खुद रस्किन बांड का घर है। पहाड़ों पर रहने वाले सीधे-सादे, सरल लोगों की ये कहानियाँ कहीं तो पाठक के दिल को छू लेती हैं और कहीं उनके चेहरे पर मुस्कान लाती हैं। पहाड़ो पर विकास की गति बढ़ने से कैसे वृक्षों की जगह ऊँची इमारतें खड़ी हो रही हैं और स्टील, सीमेंट, प्रदूषण व आधुनिक रहन-सहन के तनाव और चिन्ताएँ इन लोगों की जि़न्दगी पर भारी पड़ रही हैं-इन सबकी पीड़ा की भी झलक इन कहानियों में मिलती है।

Meri Priya Kahaniyaan

Meri Priya Kahaniyaan

Meri Priya Kahaniyaan [Hardcover] [Jan 01, 2014] Upendranath Ashk

Books published by Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) at best prices | Best of Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) (700 books)

Books published by Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) at best prices | Best of Rajpal & Sons (Rajpal Publishing) (700 books) Price
Shahdat Rs. 314.0
Ajab Gajab Meri Duniya Rs. 380.0
Ganesha Rs. 50.0
Tilsam Rs. 87.5
Rape Tatha Anya Kahaniyan Rs. 87.5
Prernatamak Vichar (Inspiring Thoughts Quotation Series) Rs. 79.0
Nauva Geet Rs. 62.5
Mann Kya Hai Rs. 93.0
Hamlet Rs. 62.5
Gadar Ke Phool Rs. 180.0
Ek Sadak Sattavan Galiyan Rs. 87.5
Chanakya Rs. 43.0
Akbar Aur Birbal - I Rs. 50.0
Vaidik Gyan Vigyan Kosh Rs. 510.0
Vadh Rs. 87.5
Rajpal English Hindi Dictionary of Official Terms & Usage Rs. 275.0
Ratna Ki Baat Rs. 135.0
Udaan Rs. 249.0
Thanda Ghosht Aur Anya Kahaniyaan Rs. 255.0
Telegu Ki Chuni Hui Kahaniyaan Rs. 260.0
The Room on the Roof Rs. 270.0
Pichhle Dino Rs. 72.5
Night Train at Deoli Rs. 340.0
Meri Priya Kahaniyaan Rs. 100.0

Bot